Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

माँँ ने कभी न हिम्‍मत हारी

माँ ने कभी न हिम्मत हारी।

बस कुछ न कुछ करते धरते
कदमों को न देखा थकते
पौ फटने से साँझ ढले तक
बस देखा है उम्र बदलते
हर दम देखी काम खुमारी।
माँ ने कभी न……..

झाड़ू चौका चूल्हा चक्की
समय साधने में वह पक्की
नहीं पड़ी कोई क्या कहता
सोच लिया तो करना नक्की
पीछे रहती घड़ी बिचारी।
माँ ने कभी न……..

कपड़े धोना, सीना-पोना
दूध जमाना, छाछ बिलोना
साफ-सफाई की बीमारी
धोना घर का कोना-कोना
समय पूर्व करती तैयारी।
माँ ने कभी न……..

सही समय पर हमें उठाना
नहीं उठें तो आँख दिखाना
घुटी पिलाना संस्कारों की
पर्व त्योहारों को समझाना
घर भर है उसका बलिहारी।
माँँ ने कभी न………

पास-पड़ौस समाज सभी का
ध्यान रहे हर काम सभी का
हर खुशियों गम में शरीक हो
हाथ बँटाती सदा सभी का
बस ऐसे ही उम्र गुजारी।
माँ ने कभी न……..

बहिना की जब हुई सगाई
खुशियों से फूली न समाई
दौड़-दौड़ दुगुनी हिम्मत से
पल में उसकी करी बिदाई
फिर टूटी पर उफ न पुकारी।
माँ ने कभी न……..

पापा के कंधे से मिल कर
हाथ बँटाया हँस मिलजुल कर
कभी पता ना चला समय का
बड़े हो गये हम कब पल कर
समझ गये माँ की खुददारी।
माँ ने कभी न……..

आई बहू न कुछ भी बदला
कहती धी ने चोला बदला
मेरे घर हैं कौन कुटुम्बी
ईन-मीन चारों का खटला
कहती घर गूँजे किलकारी
माँ ने कभी न……..

सौभाग्य कहा और मिली बधाई
कहते सब हैं लक्ष्मी आई
मैंने सुख पाया माँ है खुश
मुझको तो माँ जैसी पाई
अब सुख पाएगी महतारी।
माँ ने कभी न……..

माँँ ने कभी न हिम्‍मत हारी।।

145 Views
You may also like:
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहचान...
मनोज कर्ण
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
अनामिका के विचार
Anamika Singh
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आस
लक्ष्मी सिंह
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुआ आई
राजेश 'ललित'
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...