Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

महिला दिवस

“एक विवाह ऐसा भी”-
की सभी महिला कलाकारों को महिला दिवस
पर समर्पित——

सृष्टि रचयिता, भक्ति स्वरूपा,
ममता की पावन सरिता
विविध रूप ऐ तेरे वनिता…

“कलावती” का विराट स्वरूप
करुणा को करे प्रतिमूर्त…

“माँ सा” की ममता, स्नेह की शय्या
पार करे सुकोमल भावनाओं की नैया…

समर्पित,अर्पित “सुहासिनी”
आदर-सम्मान की अधिकारिणी…

आहलाद और हो उमंग ही उमंग
जहां हों “सिंदुरा” और “सुमन”…

“नूपुर” की कला का प्रदर्शन
करता सबका उत्साहवर्धन…

“अंतरा”-“संजना” की महिमा
सहज शक्ति की करे अभिव्यंजना…

नारी माँ है, बहन है, पत्नी है, बेटी है-
नारी का स्वरूप ज्योतिर्मय एवं विराट है,
भक्ति-शक्ति स्वरूपा गृह प्रांगण की साक्षात देवी है,

Language: Hindi
368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
■ लिख कर रखिए। सच साबित होगा अगले कुछ महीनों में।
■ लिख कर रखिए। सच साबित होगा अगले कुछ महीनों में।
*Author प्रणय प्रभात*
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
किसान
किसान
Dp Gangwar
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
Sunil Maheshwari
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
मन
मन
Neelam Sharma
मित्रो नमस्कार!
मित्रो नमस्कार!
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
प्रदीप छंद
प्रदीप छंद
Seema Garg
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
पं अंजू पांडेय अश्रु
मां
मां
Monika Verma
मेरी-तेरी पाती
मेरी-तेरी पाती
Ravi Ghayal
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
Ravi Prakash
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...