Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 3 min read

महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण

महाश्रृंङ्गार_छंद

यह महाशृंगार छंद, शृंगार छंद के विधानुसार ही लिखा जाता है , पर 16 पर यति देकर 32 मात्रा पर चरणांत करना होता है |
शृंगार छंद बहुत ही मधुर लय का 16 मात्रा का चार चरण का छंद है। तुक दो दो चरण में या चारो चरण में होती है , | इसकी मात्रा बाँट 3 – 2 – 8 – 3 (ताल) है। प्रारंभ के त्रिकल के तीनों रूप मान्य है जबकि अंत का त्रिकल केवल दीर्घ और लघु (21) होना चाहिए। द्विकल 1 1 या 2 हो सकता है। अठकल के नियम जैसे प्रथम और पंचम मात्रा पर शब्द का समाप्त न होना, 1 से 4 तथा 5 से 8 मात्रा में पूरित जगण का न होना और अठकल का अंत द्विकल से होना मान्य हैं।

विधान-16,16 पर यति कुल 32 मात्राएँ प्रति चरण।
कुल चार चरण। चरण का प्रारंभ त्रिकल फिर द्विकल से
एवं चरणान्त गाल (21) से अनिवार्य।

चरणान्त दो दो चरण की तुकान्त हो तो #उत्तम ।
दो दो चरणों में यति पूर्व की तुकान्त दूसरे चरण की यति पूर्व सम हो तो #सर्वोत्तम।
चारों चरण की हो तो #अति_सर्वोत्तम होती है।
**********************************
इस छंद में आप #मूलछंद , #मुक्तक , #गीतिका #गीत लिख सकते है |
जिनके उदाहरण मैं ( सुभाष सिंघई ) सृजन कर प्रस्तुत कर रहा हूँ

करें अब राधा का शृंगार , गूँथते वेणीं में मधु फूल |
नदी का माने वह उपकार , बैठने देता है जो कूल ||
कहे अब राधा हे घन श्याम, हुआ है मान महाशृंगार |
जानती तेरा हूँ यह काम , सभी मैं समझी हूँ अभिसार‌ ||
~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब मुक्तक में

समय का नहीं रहा विश्वास , चले है कैसे अब यह दौर |
भरोसा नहीं किसी पर खास , कहाँ पर कैसा मिलता ठौर |
मिले जब घातों पर ही घात , समझ लो खतरे में है बात ~
बचो अब दुश्मन से दिन रात , करो मत कोई अपना शौर |
==================================
अपदांत गीतिका ( आधार महाश्रृंङ्गार छंद )

चली है पगडंडी पर नार , झलकती मुख पर थोड़ी लाज |
किया है उसने जो शृंगार , दर्श में खिले कुमदिनी आज ||

कान की बाली बजती झूम , अनोखा बिखरे अब संगीत ,
गाल को लेती बढ़कर चूम , करे वह खुद पर थोड़ा नाज |

सिकुड़कर गोरी होती दून , बनी है सबको वह चितचोर ,
बना है घूघट अब मजमून , बोलता जैसे पूरा साज |

गाँव में भारी होता शोर , चले नर नारी उसकी ओर ,
नैन की घायल करती कोर , देखते छैला बनकर बाज |

हारता मन को यहाँ “सुभाष” , अमिट है गोरी की अब छाप ,
रूप का करना चाहे प्राश , लगे वह सबको अपना ताज |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
गीत (आधार महाश्रृंङ्गार छंद )

राधिका यमुना के है कूल , बने है भोले भाले श्याम | मुखड़ा
कहे अब तेरे चेहरे धूल , छुड़ाता हाथों से अविराम ||टेक

इशारा करती राधा देख , श्याम की पूरी मंशा जान |अंतरा
कहे तू छूने करता‌ लेख , यहीं मैं जानू तेरा मान ||
आज भी नटखट करता काम , श्याम भी हँसते है उस शाम |पूरक
कहे अब तेरे चेहरे धूल , छुड़ाता हाथों से अविराम ||टेक

खिले है कमल नदी के नीर , हरे सब मन की पूरी पीर |अंतरा
राधिका हँसती कृष्णा देख , लगे भी श्यामा बड़े अधीर ||
कहें क्यो रोके लेकर नाम , दिखा है तिनका नथनी थाम |पूरक
कहे अब तेरे चेहरे धूल , छुड़ाता हाथों से अविराम ||टेक

चली है पवन वहाँ कर शोर , नाचते दिखते है अब मोर |अंतरा
सुहाना लगता है सब ओर , श्याम भी राधा करे निहोर ||
बोलते मानो मेरी बात , नहीं है खर्चा कुछ भी दाम |पूरक
कहे अब तेरे चेहरे धूल, छुड़ाता हाथों से अविराम ||टेक
~~~~~~~~~~~~~~~~~
#सुभाष_सिंघई , एम. ए. हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र , निवासी जतारा ( टीकमगढ़ ) म० प्र०

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कल की भाग दौड़ में....!
कल की भाग दौड़ में....!
VEDANTA PATEL
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तड़पता भी है दिल
तड़पता भी है दिल
हिमांशु Kulshrestha
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रुसवा दिल
रुसवा दिल
Akash Yadav
■ धूर्तता का दौर है जी...
■ धूर्तता का दौर है जी...
*प्रणय प्रभात*
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
यादें
यादें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
sushil sarna
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
Loading...