Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2023 · 2 min read

महाराणा प्रताप

भारत देश महान हमारा,
क्योंकि भूमि है वीरों की।
बलिदान धैर्य व त्याग भरा,
है स्वर्ण कथा शमशीरों की।

महाराणा था अतुलित योद्धा,
अद्भुत सी शौर्य कहानी थी।
शक्ति अदम्य भरी राणा में,
उसके बल की न सानी थी।

राणा के जैसा योद्धा था,
चेतक नामक अद्भुत धोड़ा।
जब जैसे जहाँ जरूरत हो,
रन में राणा वैसे मोड़ा।

गति सरपट थी वायु समान,
चेतक छलांग में निराला था।
एक बार युद्ध में पार किया,
सन्मुख जो भारी नाला था।

प्रताप का कवच बहत्तर का,
इक्यासी किलो का था भाला।
किलो पचपन की थी ढाल खडग,
लेकर चलता चेतकवाला।

क्षत्रिय वंश में जन्म लिया,
पित उदयसिंह माँ,जसवन्ता।
निज मातृभूमि के मान हेतु,
राणा था दुश्मन का हन्ता।

‘कीका’ था नाम लड़कपन का,
माँ बाप का राज दुलारा था।
छत्तीस की आयु में राजा बन,
शासन का काम संवारा था।

स्वाभिमान प्रिय था राणा को,
पराधीनता कभी न स्वीकारा।
अपनी मिट्टी के कुशल हेतु,
जाने कितने वैरी मारा।

दिल्ली के शासक अकबर में,
विस्तारवाद की नीती थी।
भारत के लघु राजाओं को,
सम्मलित कर किया अनीती थी।

मेवाड़ पर नजर थी अकबर की,
छल बल रण से हथियाना था।
लेकिन जब तक राजा राणा,
दुष्कर मेवाड़ को पाना था।

कई बार युद्ध हुआ मुगलों संग,
संघर्ष सदा चलता ही रहा।
राणा प्रताप ऐसा योद्धा ,
दुश्मन ललकार न कभी सहा।

महादेव भक्त था महाराणा,
आचार नियम पर अडिग सदा।
रण में जीती जितनी बेगम,
कटु दृष्टि थी डाली नहीं कदा।

सम्मान साथ वापस भेजा,
जितनी भी थी मुगली नारी।
सम्राट की शान अनोखी थी,
अकबर होता था आभारी।

आखिर दुश्मनी चरम पहुँची,
हल्दीघाटी बनी समर धरा।
अकबर की सेना के आगे,
राणा प्रताप हुंकार भरा।

पंद्रह छिहत्तर तीस मई,
हल्दीघाटी बदली छाई।
तुर्की सेना के बरख़िलाफ़
मेवाड़ फौज लड़ने आई।

थे लाख सिपाही अकबर के,
प्रताप ओर बस दो सौ शतक।
क्षत्रियों का जज्बा ऐसा था,
कम साधन में लड़ते थे अथक।

मुगलों के दांत किये खट्टे,
जितने आये लड़ने सारे।
राणा के वीर बांकुरों ने,
कितने मुगली सैनिक मारे।

पर आई विषम परिस्थिति थी,
इस ओर बचा साधन थोड़ा।
प्रताप ने शक्ति जुटाने को,
कानन की ओर अश्व मोड़ा।

रह गयी लालसा धरी सकल,
अकबर न कर पाया बन्दी।
राणा ने पानी फेर दिया,
जो अरि की नीति बनी गन्दी।

तृण तिनकों की रोटी खाई,
खुद को वन में तैयार किया।
निज आन बान सम्मान प्रिय,
स्वदेश को सदैव प्यार दिया।

राणा आजाद रहेगा सदा,
परबसता नहीं स्वीकरेगा।
प्रताप का केवल एक प्रण था,
अकबर को तुर्क पुकारेगा।।

संधर्ष अनवरत बना रहा,
भीलों संग छद्म युद्ध सीखा।
कई बार प्रताप की जंग देख,
अकबर हैरान लगा दीखा।

प्रताप सखा दानी भामा
मजबूत किया मोहरें देकर।
फिर क्या था राणा युद्ध किया,
ठहरा था रजधानी लेकर।

कई युद्ध के घाव बदन पर थे,
राणा की देह बयान दिया।
उनतीस जनवरी सत्तानवे,
प्रताप जगत से पयान किया।

इस देशभक्त की उपमा में,
दुश्मन झुक मान बढ़ाते हैं।
प्रताप जयंती पर हम सब,
श्रद्धा के सुमन चढ़ाते हैं।

सतीश सृजन, लखनऊ

Language: Hindi
2 Likes · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
Dr fauzia Naseem shad
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
आर.एस. 'प्रीतम'
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
#बस_छह_पंक्तियां
#बस_छह_पंक्तियां
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
Sarfaraz Ahmed Aasee
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम"
Satish Srijan
मंजिल एक है
मंजिल एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"जीवन क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
Loading...