Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2016 · 2 min read

महाराज ! कालाधन चाहिए (व्यंग्य )

एक बार भोलू पहलवान समुद्र मंथन से निकले धन्वन्तरि को अपने घर ले आया हालंकि जो कलश धन्वन्तरि लिए हुए थे
वो देवताओं में पहले बँट चुका था , पर उसे संतोष था कि कुछ अमृत पात्र से चिपका है इसलिए घर लाने के बाद आसन पर विराजमान कर धन्वन्तरि को प्रणाम किया चूँकि देवताओं के वैध
है इसलिये धन्वन्तरि ने पूछा ‘वत्स कैसे याद किया और क्या प्रयोजन है यहाँ लाने का ।

भोलू पहलवान की आवाज में दयनीयता थी , “महाराज चालीस दशक बीत गये कुश्ती लड़ते – लड़ते । शरीर दुर्बल हो गया है बस कुछ अमृत मुझे प्रभु दे दो जिससे जब तक मरूँ कुछ न करना पड़े और काला धन कमा कर अपना और बच्चों का भविष्य सुरक्षित कर दूँ । बस महाराज , आप तथास्तु कहिए । आधा आपका ।

लेकिन भोलू , अगर तुम अमर हो गये तो बहुत सारा काला धन कमा लोगें , लेकिन यह पाप है तुम्हारी औलाद बिगड़ जायेगी । कुछ काम – धाम नहीं करेंगी ।

भोलू पहलवान बोला , नहीं महाराज , निठल्ला होना भी एक योग्यता है पढ़े – लिखे से अंगूठा टेक ज्यादा कमाते है महाराज । हमारे बहुत से नेता ऐसे है । काले धन के बहुत से फायदे भी है।

गरीबों को दान दे दो , मन्दिरों में चढ़ा दो इसके अलावा बहुत से काम है जहाँ काला धन सफेद हो जाता है हमारे देश में और महाराज सुनो, ” सबको काला धन ही रास आता है “हमारी सरकार ही तो विरोध कर रही है महाराज बाकी सब को तो चाहिए ।
भोलू बोला महाराज जब तक काला धन न कमाओ तरक्की नहीं हो सकती , इतना सुन धन्वन्तरि महाराज ने कहा कि चलो मैं कुबेर को भेजता हूँ लेकिन शर्त है कि काले धन की बात किसी को बताना मत , हाँ महाराज । यह कहकर धन्वन्तरि महाराज तो अन्तर्ध्यान हो गये ।

अब कुबेर सोच रहे कि मैं कहाँ फँस गया । भोलू क्यों ले आया मुझे यहाँ । कुबेर ने पूछा , वत्स बोल , क्या चाहता । महाराज बस , केवल कालाधन ।

लेकिन क्यों ? भोलू ने कहा कि ” कालाधन ही तो अमीर बनाता है वहीं समृद्धि का प्रतीक है उसी से चेहरें पर चमक आती है वही स्टेट्स सेम्बल है । वही प्रतिष्ठा बढ़ाता है ।इतना सुन कुबेर ने भोलू को अक्षत पोटली पकड़ा दी और कुबेर अदृश्य हो गये ।

Language: Hindi
74 Likes · 2 Comments · 598 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
gurudeenverma198
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
3271.*पूर्णिका*
3271.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
मरने के बाद करेंगे आराम
मरने के बाद करेंगे आराम
Keshav kishor Kumar
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"मुस्कुराते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना सा नाइजीरिया
अपना सा नाइजीरिया
Shashi Mahajan
■ कौन बताएगा...?
■ कौन बताएगा...?
*प्रणय प्रभात*
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
*परिवार: सात दोहे*
*परिवार: सात दोहे*
Ravi Prakash
जय शिव-शंकर
जय शिव-शंकर
Anil Mishra Prahari
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
Loading...