Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2023 · 1 min read

*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*

महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)
_________________________
गाते जीवन-भर रहे, भारत ही का नाम
महामना जैसा भला, होगा किसका काम
होगा किसका काम, सनातन धर्म सिखाया
उच्च मूल्य आदर्श, अमल करके दिखलाया
कहते रवि कविराय, बनारस में रस लाते
पढ़ने आता विश्व, छात्र भारत मॉं गाते
———————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
Shweta Soni
"" *स्वस्थ शरीर है पावन धाम* ""
सुनीलानंद महंत
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दो पल का मेला
दो पल का मेला
Harminder Kaur
*जाओ ले संदेश शुभ ,प्रियतम पास कपोत (कुंडलिया)*
*जाओ ले संदेश शुभ ,प्रियतम पास कपोत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"शौर्य"
Lohit Tamta
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"सुनो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
Loading...