Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2022 · 2 min read

महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)

#वैद्यनाथ_मन्दिर_कथा भाग -02

—-***—–

1745 ई. मे दीघर्ष संदहपुर मूलक
शांडिल्य गोत्रीय श्रोत्रिय ब्राह्मण ठाकुर टीकारामकेँ विधिवत वैद्यनाथ मन्दिरक प्रधान पुरोहित बनाओल गेल । दोसर दिस तिरहुत पड़ोसी राजा सभसँ लड़ाइमे लागल रहै । न्यायशास्त्र के खातिर जानल जाए वाला ई क्षेत्र आब उथल-पुथल मे छल। मुदा भौराक सड़क पऽ मिथिलाधीश नरेन्द्रक शौर्यक झंडा लहर लहर लहरा रहल छल । खण्डवाला वंशक खण्ड (एक प्रकारक तलवार) पर तिरहुतिया लोकक बहुत आस्था छलनि। ई मुगल काल छल आ मुगलक वर्चस्वकेँ अफगानी सभ चुनौती दऽ रहल छल ।

ठाकुर टीकाराम जी के शुरूमे वैद्यनाथ मंदिरमे बहुत विस्मय के सामना करैय पड़ल जखन बाबा बैजूक दरबारमे पहिल पूज्य देव गणेश के स्थापना नै भेल छल। हुनका लोकनिक बिना कोनो देवताक पूजा कोना संभव छै ? संगे-संग
मिथिलाधीश महाराजा नरेन्द्रसँ आर्थिक सहायता भेटलाक बाद ओ मन्दिरक निर्माणक काज शुरू कए देलन्हि। विस्मय के एकटा आओर कारण ई छल जे आपस मे गद्दी के लेल लड़ब अपन धर्म के बर्बाद करय के बराबर हैं . जँ एतेक ऊर्जा जनकल्याण खातिर खर्च कएल जाएत तखन ओ सामाजिक प्रगतिक वाहन बनि सकैत अछि।किछ समय बाद ओ अपन पूर्ववर्ती मठक प्रमुख जय नारायण ओझाकेँ मन्दिरक निर्माण कार्य सौंपैत तिरहुत चलि गेलाह। एम्हर जय नारायण अपन भतीजा यदुनंदा केँ ई पद सौंप देलनि।चूँकि जय नारायणक जेठ पुत्र नारायण दत्त एहि पद पर बैसि सकैत छलाह मुदा ओ नाबालिग आ अयोग्य छलाह। तेँ भातिजकेँ हड़बड़ीमे नियुक्ति कएल गेल।एहि नियुक्तिक प्रचार महाराजा दरभंगाक क्रोध सँ बचबाक लेल नै कतहु कैल गेल,मुदा यदुनन्द ओझाक नाम गिद्धौर महाराजक किछ अभिलेखीय साक्ष्यमे भेटैत अछि, जेसो आधार पर इतिहासकार लोकनि हिनका ‘प्रधान कार्यकारिणी’ हेबाक शंका व्यक्त कयलनि अछि।

तिरहुतक सोदरपुर गामक रहनिहार टीकाराम फेर भौराक राजभवन जाकऽ मन्दिर निर्माण लेल भेटल आर्थिक सहयोग सँ किछु अंतराल पर आगू बढ़ैत रहलाह। 1753 ई0 मे मिथिलाधीश महाराज नरेन्द्र कन्दर्पी घाटक युद्ध लड़लनि। एहि समय पंडित टीकाराम ‘श्री गणेश प्रशस्ति’ केर रचना केने छलाह। ओ एकटा आओर ग्रंथ ‘श्रीवैद्यनाथ पूजा-व्यवस्था’ के रचना क’ रहल छलाह.

कन्दर्पी घाटक युद्धसँ ओ बहुत आहत भेलाह। मन निरागसक प्रति आकृष्ट भेल। पिता महामहोपाध्याय प्राणनाथ सेहो हिंसासँ असंतुष्ट भऽ महाराजक अनुमतिसँ अनजान यात्रा पर निकलि गेलाह। कहल जाइत छै कि
ओ काशी गेल रहै । हिनक द्वारा रचित अनेक रचनामे ‘चक्रव्यूह’क एकटा पाण्डुलिपि नागरी प्रचारिणीक कोषागारमे सुरक्षित अछि।

कोमल मन केर स्वामी आ ज्योतिष केँ महान विद्वान श्री टीकाराम भगवान शिव के आश्रयमें फेरो घुरि वैद्यनाथ धाम आयो ।एतय हुनका पता चललनि जे पूर्व मठ-उच्छैर्वे (मठप्रधान) जिनका ओ प्रभाग देने हथि ओ पद हुनक पुत्र देवकीनंदन केँ सौंप देलनि। देवकीनन्दन स्वभावमे बहुत उग्र छलाह। हिनका द्वारा अपन पितियौत भाइ नारायण दत्तक संग कयल गेल अन्यायक चर्चा भगवती कालीक महान संस्कृत पंडित आ विलक्षण साधक कमलदत्त (द्वारी) केर डायरी मे भेल अछि। वैद्यनाथ मन्दिरक सिंह द्वारा पर उपरोक्त शिलालेखक रचना राजा बनैलीक स्तुतिक लेल वैह कमलादत्त केने रहथिन !

उदय शंकर
इतिहासकार

(क्रमशः) २.
1787 में विलियम होजेस द्वारा तेल चित्रकला
सौजन्य : ब्रिटिश पुस्तकालय

Language: Maithili
Tag: लेख
1 Like · 582 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"एक बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
Lalit Kumar Sharma
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
Writing Challenge- भाग्य (Luck)
Writing Challenge- भाग्य (Luck)
Sahityapedia
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
मेरी आंखों के ख़्वाब
मेरी आंखों के ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
सुहागरात की परीक्षा
सुहागरात की परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवनामृत
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
असली पप्पू
असली पप्पू
Shekhar Chandra Mitra
🌸🌼उनकी किस सादगी पर हम मचलते रहे🌼🌸
🌸🌼उनकी किस सादगी पर हम मचलते रहे🌼🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2995.*पूर्णिका*
2995.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Sakshi Tripathi
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
लगे मौत दिलरुबा है।
लगे मौत दिलरुबा है।
Taj Mohammad
वक्त कब लगता है
वक्त कब लगता है
Surinder blackpen
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
Loading...