Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

*महानगर (पाँच दोहे)*

महानगर (पाँच दोहे)
_________________________
(1)
ऊपर से सब ठीक है, अन्दर से है रोग
अपना घर-गाड़ी कहाँ, किस्तों पर सब लोग
(2)
ऊॅंचे वेतन के लिए, नाहक ही बदनाम
महानगर में सब गया, महँगाई के नाम
(3)
किस्तें भर-भर के हुआ, जिसका एक मकान
महानगर में वह बड़ा, भाग्यवान इन्सान
(4)
रहन-सहन ऊँचा हुआ, लेकिन क्षुद्र विचार
भाईचारे का गया, कलियुग में व्यवहार
(5)
लोग चतुर सब हो गए, लोग हुए चालाक
बातों में है फेर अब, बातें कब बेबाक
________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
2603.पूर्णिका
2603.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-123💐
💐अज्ञात के प्रति-123💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
कब किसके पूरे हुए,  बिना संघर्ष ख्वाब।
कब किसके पूरे हुए, बिना संघर्ष ख्वाब।
जगदीश लववंशी
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
करके याद तुझे बना रहा  हूँ  अपने मिजाज  को.....
करके याद तुझे बना रहा हूँ अपने मिजाज को.....
Rakesh Singh
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
आज कोई नही अनजान,
आज कोई नही अनजान,
pravin sharma
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
गाली भी बुरी नहीं,
गाली भी बुरी नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...