Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।

महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
गैरों को देती रही, साकी भर -भर जाम ।
यह कैसी सरगोशियाँ, कैसी हैं यह दर्द –
लम्हा लम्हा दिन कटे, तनहा- तनहा शाम ।

सुशील सरना / 20-3-24

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाँदनी .....
चाँदनी .....
sushil sarna
"नहीं तैरने आता था तो"
Dr. Kishan tandon kranti
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
सूखी टहनियों को सजा कर
सूखी टहनियों को सजा कर
Harminder Kaur
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
ज़िंदगी हम भी
ज़िंदगी हम भी
Dr fauzia Naseem shad
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
वो
वो
Ajay Mishra
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*शुभकामनाऍं*
*शुभकामनाऍं*
Ravi Prakash
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan Alok Malu
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
gurudeenverma198
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
पूर्वार्थ
Loading...