Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2018 · 1 min read

महज़ सपना

बहुत दिन हुए नहीं बात की किसी अपने से/बहुत दिन हुए मुलाक़ात नहीं हुई
हृदय में उमड़ते सपने से/बहुत दिन हुए नहीं पी चाय
किसी अपने के घर बैठ/बहुत दिन हुए
नहीं दिखाई किसी अपने ने
बेमतलब की ऐंठ/
बहुत दिन हुए
नहीं गाया दिल का गीत/
बहुत दिन हुए
नहीं मिली दिल-सी प्रीत/
बहुत दिन हुए
घूमा नहीं
किसी अपने के संग
नहीं बिखेरे आपस में
मस्ती के रंग/सच पूछो तो
अब पराया
हर अपना हो गया
या यूँ कहूँ
अपनेपन का भाव
महज़ सपना हो गया।
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
~
~"मैं श्रेष्ठ हूँ"~ यह आत्मविश्वास है... और
Radhakishan R. Mundhra
मेघों की तुम मेघा रानी
मेघों की तुम मेघा रानी
gurudeenverma198
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
#एक_तथ्य-
#एक_तथ्य-
*प्रणय प्रभात*
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"क्या निकलेगा हासिल"
Dr. Kishan tandon kranti
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
Dr. Narendra Valmiki
तुम ही सुबह बनारस प्रिए
तुम ही सुबह बनारस प्रिए
विकास शुक्ल
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
“मंजर”
“मंजर”
Neeraj kumar Soni
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
अब सौंप दिया इस जीवन का
अब सौंप दिया इस जीवन का
Dhirendra Singh
घर आंगन
घर आंगन
surenderpal vaidya
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेजुबानों से प्रेम
बेजुबानों से प्रेम
Sonam Puneet Dubey
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
चाल समय के अश्व की,
चाल समय के अश्व की,
sushil sarna
मलाल न था
मलाल न था
Dr fauzia Naseem shad
मिथक से ए आई तक
मिथक से ए आई तक
Shashi Mahajan
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
कवि दीपक बवेजा
Loading...