Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2021 · 1 min read

महंगाई और तेल

महंगाई जब भी आती है, सबको बड़ा सताती है।
ये अजीब महंगाई है जो तेल ,प्याज पर टिक जाती है।
सैलरी बढ़ती नही बताते ,सब्सिडी खाते नही बताते,
क्या इन्ही चंद चीजों में ,महंगाई नजर अब आती है।
आज तक मैने न देखा, किसने दारू पर शोर किया हो।
बढ़ा दाम है मदिरा का, इसका विरोध पुरजोर किया हो।
आखिर जनता चंद चीज़ो पर ,मुद्दे से भटक क्यो जाती है।
ये अजीब महंगाई है जो तेल ,प्याज पर टिक जाती है।
कार ,दोपहिया का दाम जब बढ़ता ।
पर उसपर लोग का पारा नही चढ़ता।
दाम कितना है मतलब न इससे ,लेते हैं जो भाती है।
ये अजीब महंगाई है जो तेल ,प्याज पर टिक जाती है।
18 का गेहूं 2 में मिलता ,इसपर जनता कभी बोली क्या?
मुफ्तखोर सरकार बना दी तुम्हे ,इससे भरेगी झोली क्या?
जब भी चुनाव आ जाता है ,सरकारें मुफ्त लुटाती है।
ये अजीब महंगाई है जो तेल ,प्याज पर टिक जाती है।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
Manoj Mahato
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*प्रणय प्रभात*
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आप देखो जो मुझे सीने  लगाओ  तभी
आप देखो जो मुझे सीने लगाओ तभी
दीपक झा रुद्रा
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
जिंदगी के साथ साथ ही,
जिंदगी के साथ साथ ही,
Neeraj Agarwal
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
2646.पूर्णिका
2646.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर-सम्त शोर है बरपा,
हर-सम्त शोर है बरपा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...