Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

और भी हैं !!

रखिये धीरज कि जीने के बहाने अभी और भी हैं,
उनके शहर से दूर कई आशियाने अभी और भी हैं।

दिल में दबा है जो ग़ुबार दिल में ही रहने दो,
एक बेवफ़ाई ही नहीं उनसे शिकायतें और भी हैं।

ग़म का क्या है आज नहीं तो कल कट जाएगा,
जो काटे नहीं कटेंगी अकेली रातें अभी और भी हैं।

मुझसे दर्द-ओ-ग़म की बातें और ना करो ऐ दोस्त,
सुकून से निकालने को बचे लम्हें अभी और भी हैं।

चलो देर से ही सही तुम्हें अक्ल तो आई ऐ ज़िन्दगी,
इश्क़ के अलावा दिल बहलाने के रास्ते और भी हैं।।

© अभिषेक पाण्डेय अभि

34 Likes · 295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दुःख-सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
Don't leave anything for later.
Don't leave anything for later.
पूर्वार्थ
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
2912.*पूर्णिका*
2912.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
Dr Mukesh 'Aseemit'
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
राम की आराधना
राम की आराधना
surenderpal vaidya
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#जीवन एक संघर्ष।
#जीवन एक संघर्ष।
*प्रणय प्रभात*
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...