Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

– मर चुकी इंसानियत –

जो घटित हुआ, वो सब के सामने घटा
चूंकि , अपना नहीं था मरने वाला
चीख चीत्कार सुनी अनसुनी कर दी
कानों में जैसी बेदर्दी भर ली
आँखों के सामने गुजरा वो क्रूर लम्हा
तभी तो आज इंसानियत भी मर गयी !!

काश ! वो मरने वाली खुद की औलाद होती
तो टुकड़े टुकड़े कर देता उस वक्त देखने वाला
चाकू से वार करते एक एक ने देखा
पत्थर से सर फोड़ते भी सब ने देखा
कहाँ मर गया था जमीर देखने वालों का
तुम तो सामने थे फिर इंसानियत क्यूँ मर गयी ??

यह जरूरी नहीं कि वो हिन्दू है , या मुसलमान
जिस ने बाद में देखा तो उठ गया दिल में तूफ़ान
खुद को कोसने लगा दिल मेरा देख के हैवान
ओ इंसान तू क्यूँ बन रहा है , हर वक्त हैवान
किसी के दिल का टुकड़ा है वो, जो मर रहा
कैसा इंसान है तू , कैसे इंसानियत भी तेरी मर गयी ??

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
आर.एस. 'प्रीतम'
हिंदी दोहे - हर्ष
हिंदी दोहे - हर्ष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
😊😊फुल-फॉर्म😊
😊😊फुल-फॉर्म😊
*प्रणय प्रभात*
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
ज़िन्दगी भर ज़िन्दगी को ढूँढते हुए जो ज़िन्दगी कट गई,
ज़िन्दगी भर ज़िन्दगी को ढूँढते हुए जो ज़िन्दगी कट गई,
Vedkanti bhaskar
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
बहुत ढूंढा बाजार में यूं कुछ अच्छा ले आएं,
बहुत ढूंढा बाजार में यूं कुछ अच्छा ले आएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
Rajesh Kumar Arjun
अकेलापन
अकेलापन
Shashi Mahajan
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
जख्म वह तो भर भी जाएंगे जो बाहर से दिखते हैं
जख्म वह तो भर भी जाएंगे जो बाहर से दिखते हैं
Ashwini sharma
चिराग आया
चिराग आया
Pratibha Pandey
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...