Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2018 · 1 min read

मरा जा रहा हूँ

मरा जा रहा हूँ
**************
प्रिय मुझसे तेरा यूं मुंह का फुलाना,
नखरे दिखाना यूं रूठ के सो जाना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

न हँसना तनिक भी न सजना सवरना,
न आँखें दिखाना न लड़ना झगड़ना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

ओ तिरछी नजर से न मुझको रिझाना,
न कसमों के ढाल को चलाना फसाना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

ओ उंगली के पोरों पर हमको नचाना,
न पीहर के डर से हमें वो डराना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

ना गहनें न साड़ी न लहंगा को कहना,
यूं गुमसुम हमेशा मेरे संग रहना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

तेरा हक से मुझपे वो चिखना चिल्लाना,
ना कॉफी पिलाना, न गले से लगाना,
गजब ढा रहा है, गजब ढा रहा है।

न पिक्चर को जाना,न शापिंग ही जाना,
सनम अब बता तुझको कैसे मनाना?
मरा जा रहा हूँ , मरा जा रहा हूँ,
यूं हमसे न रूठो , मरा जा रहा हूँ।
**********
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल ” सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण (बिहार)

Language: Hindi
548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
* लोकतंत्र महान है *
* लोकतंत्र महान है *
surenderpal vaidya
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
सत्य कुमार प्रेमी
मन में रखिए हौसला,
मन में रखिए हौसला,
Kaushal Kishor Bhatt
12 fail ..👇
12 fail ..👇
Shubham Pandey (S P)
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोचा था सन्तान ही,
सोचा था सन्तान ही,
sushil sarna
आलोचना के द्वार
आलोचना के द्वार
Suryakant Dwivedi
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
■सत्ता के लिए■
■सत्ता के लिए■
*प्रणय प्रभात*
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
Loading...