Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

मम्मी की मम्मा वो धरती है नानी

आज अपने बच्चो से क्यों डरती है नानी ?
शुबह शुबह काम क्यों करती है नानी ?

सीने से लगाकर अपने बच्चो को पाला ,
आज अपने घर में क्यों सरती है नानी ?

गुटनो में तेज दर्द हो रही आँख अंधी ,
किसी से कुछ क्यों नही कहती है नानी ?

मिला जब मै उससे ह़ाल ए दिल सुनाई ,
बुढ़ापे में क्यों जुल्म सहती है नानी ?

जोड़कर तिनका उसने गृहस्ती बसाई ,
डरी सहमी हुई सी क्यों रहती है नानी ?

बहू बेटे की बातो को हँस के वो टाले ,
पानी के जैसे क्यों बहती है नानी ?

लड़के नाती पोता से पूरा घर भरा है ,
माँ बूढ़ी कुएँ से क्यों भरती है पानी ?

यारो सबकुछ सहन कर समेटे हुए है ,
मम्मी की मम्मा वो धरती है नानी !!

प्रभु से कह रहा रो रोकर के जुगनू ,
चन्दन देसी घी से क्यों जलती है नानी ?

491 Views
You may also like:
चौपई छंद ( जयकरी / जयकारी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
दीवाली की रात सुहानी
Dr Archana Gupta
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
Surabhi bharati
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*शोध प्रसंग : क्या महाराजा अग्रसेन का रामपुर (उत्तर प्रदेश)...
Ravi Prakash
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
दिहाड़ी मजदूर
Shekhar Chandra Mitra
दिल्ली का प्रदूषण
लक्ष्मी सिंह
शायरी
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल के सब जज़्बात।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Anis Shah
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
शेर
Rajiv Vishal
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
'अशांत' शेखर
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
" लहर मेरे मन की "
Dr Meenu Poonia
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पापा
Anamika Singh
मुहब्बत और इबादत
shabina. Naaz
Divine's prayer
Buddha Prakash
Loading...