Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2022 · 2 min read

*”ममता”* पार्ट-1

बैंक मैनेजर राजेश का स्थानान्तरण शहर से उनके पैत्रिक गाँव में हो गया। गाँव के माहौल को देखते हुए उसकी पत्नी सरिता ने एक गाय पालने की इच्छा व्यक्त की. मगर उसे गाय दुहना नहीं आता था. इसलिए उसने अपने पडौसी, जो रिश्ते में उनके दादीजी लगती थी उनसे चर्चा की तो उन्होंने बहू सरिता को गाय दुहना सिखाने की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेते हुए अगले दिन शाम को 5 बजे आने का कहा. सरिता और राजेश दोनों को ही काफी ख़ुशी हुई, और दोनों के बच्चे भी खुश नजर आ रहे थे.
अगले दिन शाम को जब सरिता दादीजी के घर गाय दुहने के लिए गई तो उसे अपने जीवन की एक नई शुरुआत समझते हुए अच्छे से तैयार होकर गई. दादीजी ने भी उसकी भावना की प्रशंसा की. उन्होंने उसे एक बाल्टी देते हुए कहा कि तुम चलो मै आती हूँ. सरिता जैसे ही गौशाला के पास पहुंची, शांत खड़ी गाय अचानक बैचेन होकर रंभाने लगी. दादीजी ने आते आते सोचा शायद नई बहू को देख कर असहज महसूस कर रही होगी. उन्होंने आगे बढ़कर गाय दुहने की प्रक्रिया शुरू की और सरिता से कहा देखो कैसे दुहा जाता है. सरिता ने गाय के पास आकर सीखने का प्रयास किया. गाय भी अब शांत खड़ी थी. गाय ने आज और दिनों से ज्यादा दूध दिया था. दादीजी को भी आश्चर्य हुआ. उन्होंने सरिता से कहा बहू थोडा दूध तुम भी ले जाओ बच्चों के लिए. गाय की हरकतों से ऐसा लग रहा था कि वो बहू को अपने पास और खड़ी रखना चाहती है मगर उसकी ये हरकत दोनों के ही समझ में नहीं आ रही थी. घर में और भी काम थे, इसलिए दोनों गौशाला से चली आई.
अगले दिन सुबह जब दादीजी गाय दुहने गए तो उन्हें ऐसा लगा की मानो गाय उनका इन्तजार कर रही हो. आज भी गाय ने अन्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा दूध दिया. उन्हें आश्चर्य तो हुआ मगर उन्होंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया ओर सोचा शायद मौसम या चारे की वजह से दूध बढ़ गया होगा. शाम को जब सरिता दादीजी के घर गई तो उन्होंने फिर से उसे बाल्टी थमाते हुए कहा तुम चलो मैं आती हूँ, सरिता बाल्टी लेकर गौशाला की तरफ बढती है, गाय ने उसे देख कर सर हिलाया मानो उसका स्वागत कर रही हो मगर आज वो शांत ही खड़ी रही. सरिता ने गाय के थनों के निचे बाल्टी रखी और दुहने के लिए जैसे ही थनों को हाथ लगाया दूध अपने आप निकलने लगा. सरिता को कुछ समझ में नहीं आ रहा था. वो स्तब्ध हो गई थी. जब तक दादीजी आते तब तक तो बाल्टी दूध से भर गई थी. सरिता उसे लेकर गौशाला से निकली तो सामने दादीजी मिले उन्होंने दूध से भरी बाल्टी को देखा तो सोच में पड़ गए, वे कुछ बोली नहीं सरिता को एक लोटा दूध देकर विदा किया. क्रमशः…

1 Like · 628 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅परम ज्ञान🙅
🙅परम ज्ञान🙅
*प्रणय प्रभात*
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
चंद्र प्रकाश द्वय:ः मधुर यादें
चंद्र प्रकाश द्वय:ः मधुर यादें
Ravi Prakash
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"" *महात्मा गाँधी* ""
सुनीलानंद महंत
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मैं और तू"
Dr. Kishan tandon kranti
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
Loading...