Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

ममता

ममता ममता होत है, नर पशु खग में एक ।
खग के बच्चे कह रहे, मातु हमारी नेक ।
मातु हमारी नेक, रोज दाना है लाती ।
अपने पंख पसार, मधुर लोरी भी गाती ।
वह मुख से मुख जोड़, हमें सिखलाती समता ।
जीवन के हर राह, काम आती है ममता ।।
-रमेश चौहान

184 Views
You may also like:
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
त'अम्मुल(पशोपेश)
Shyam Sundar Subramanian
2023
AJAY AMITABH SUMAN
करुणा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चरित्र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
अनसुनी~प्रेम कहानी
bhandari lokesh
पढ़ने का शौक़
Shekhar Chandra Mitra
शेर
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
ज़िद
Harshvardhan "आवारा"
गुज़रा है वक़्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
कौन सी खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
खून के बदले आजादी
अनूप अंबर
मेरे पापा
Anamika Singh
लेखनी चलती रही
Rashmi Sanjay
धनतेरस
Ravi Prakash
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
DrLakshman Jha Parimal
■ वैचारिक भड़ास...!
*Author प्रणय प्रभात*
शहादत
shabina. Naaz
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
*if my identity is lost
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरुदंड
सूर्यकांत द्विवेदी
आम आदमी अन्ना जी, ठगे ठगे रह गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
मोहब्बत के गम ने।
Taj Mohammad
Loading...