Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 8, 2016 · 1 min read

ममता

ममता ममता होत है, नर पशु खग में एक ।
खग के बच्चे कह रहे, मातु हमारी नेक ।
मातु हमारी नेक, रोज दाना है लाती ।
अपने पंख पसार, मधुर लोरी भी गाती ।
वह मुख से मुख जोड़, हमें सिखलाती समता ।
जीवन के हर राह, काम आती है ममता ।।
-रमेश चौहान

120 Views
You may also like:
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
*सुप्रभात की सुगंध*
Vijaykumar Gundal
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
"मेरे पापा "
Usha Sharma
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुर्झाए हुए फूल तरछोडे जाते हैं....
Dr. Alpa H. Amin
ए बदरी
Dhirendra Panchal
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
Loading...