Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2016 · 1 min read

मन

उड़ चल रे मन
कर ले अपने सपनों को पूरा
देखे थे जो तूने कभी
मत देख आसमाँ को
बन्द कमरे की खिड़की से
चल,बाहर निकल
और देख खुले आसमाँ को
जिसका कोई ओर न छोर ।
तोड़ दे उन सीमाओं की जंजीरों को
जकड़ा है जिन्होंने सदियों से तुझे
चल निकल , कर ले कम से कम
एक स्वप्न तो पूरा
कर ले हौसला बुलंद
तभी तो सार्थक होगा
ये जीवन तेरा ।

Language: Hindi
302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shubha Mehta
View all
You may also like:
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
बेवफा
बेवफा
Aditya Raj
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
पुकार
पुकार
Shekhar Chandra Mitra
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
"कुछ पन्नों में तुम हो ये सच है फिर भी।
*Author प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
"ना भूलें"
Dr. Kishan tandon kranti
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
जीवन तब विराम पाता है
जीवन तब विराम पाता है
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...