Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों

मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
आधा सच हैं, आधा झूठ

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
Neeraj Mishra " नीर "
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
विशुद्ध व्याकरणीय
विशुद्ध व्याकरणीय
*Author प्रणय प्रभात*
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
Ravi Prakash
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
शोहरत
शोहरत
Neeraj Agarwal
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
पूर्वार्थ
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
Loading...