Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

मन चंचल

मन चंचल, अधीन हम,पल-पल में भटकाये
कभी चढ़ाये पर्वत , कभी धरा पटकाये
ज्ञान की डोरी से अंकुश लगा यदि बांधे
तिनके प्रस्तर सम,जीवन संतुलित हो जाये।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
218 Views
You may also like:
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
मां का घर
Yogi B
हर यकीं एतबार खो बैठा
Dr fauzia Naseem shad
जोशीमठ
Dr Archana Gupta
दिल से ना भूले हैं।
Taj Mohammad
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आंखों की लाली
शिव प्रताप लोधी
■ आलेख / लोकतंत्र का तक़ाज़ा
*Author प्रणय प्रभात*
मैं वट हूँ
Rekha Drolia
मेरी बनारस यात्रा
विनोद सिल्ला
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कृपा कर दो ईश्वर
Anamika Singh
सामना
Shekhar Chandra Mitra
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
गीता की महत्ता
Pooja Singh
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दादी की तगड़ी( कहानी )
Ravi Prakash
एकता
Aditya Raj
जिंदगी के रंग
shabina. Naaz
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
महाकवि दुष्यंत जी की पत्नी राजेश्वरी देवी जी का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मै लाल किले से तिरंगा बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छंद में इनका ना हो, अभाव
अरविन्द व्यास
Loading...