Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये

मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
देखकर मन ललचाये,खाये तो मचा आ जाए l

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
"छिपकली"
Dr. Kishan tandon kranti
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
Om Prakash Nautiyal
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
3280.*पूर्णिका*
3280.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
Ravi Prakash
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*Author प्रणय प्रभात*
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
Anis Shah
Loading...