Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

मन के सवालों का जवाब नाही

” मन के सवाल का जवाब नहीं

विचारशील मै बैठकर कागज कलम की
तन्हाई पर कुछ सवाल उभरे हैं।
एकान्त की पराकाष्ठा पर
इस मन की गहराई के सवाल का जवाब नही
खामोश मन पर आगोश रख
आक्रोश की गोद में बवाल निखरा है
एकान्त की पराकास्था पर
इस मन की गहराई के सवाल का जवाब नहीं ||
चिन्तन मनन से सनन में बैठकर
नशे में चूर तन्हाई पर जबान निखरी है।
फिर भी एकान्त की पूराकाष्ठा पर
इस मन की गहराई के.सवाल का जवाब नहीं ।।
बीच राह में इन नजरो से टकराकर
वो स्वप्न सुन्दरी करीब आकर निकली है।
हडबडी की पराकाष्ठा पर
इस मन की शहजादी के वजुद का जवाब नहीं।
दिन-रात ख्यालो में आकर
उसकी हंसी इस पागल मन में समाती है।.
यादो की पराकाष्ठा पर
वो अपनी हंसी का राज बन
इस मन के सवालो का जवाब नही ।।
परे रख मन से अपनी दैनन्दिनी को
उसकी यादो पर रोज गजल लिखता हूँ ।
डायरी की पराकाष्ठा पर
वो स्वप्न सुन्दरी अतिक्रमण कर
उसकी यादो के ख्यालों का जवाब नहीं
नित परे रख मां-बाप को अपने प्यार में
उस स्वप्न सुन्दुरी के नाम दिल अपना लिखता हूँ ।
फिर वो कमी महसूस कर मेरे प्यार के वजूद पर इतना
बेगुनियाद सवाल रखती है जिसका इस मन में जवाब
नही

Language: Hindi
22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
.....
.....
शेखर सिंह
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
Shyam Sundar Subramanian
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
VINOD CHAUHAN
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
"𝗜 𝗵𝗮𝘃𝗲 𝗻𝗼 𝘁𝗶𝗺𝗲 𝗳𝗼𝗿 𝗹𝗼𝘃𝗲."
पूर्वार्थ
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*प्रणय प्रभात*
2606.पूर्णिका
2606.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...