Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

मन के मंदिर में

मन के मंदिर में बसकर,
पावन इस देह को करना!
नित नाम जपूं और ध्यान धरूं,
अपना नेह मुझमें भरना।
टूट बिखर न जाऊं कभी,
अपना प्रताप मुझमें भरना।
मन के मंदिर में बसकर,
पावन इस देह को करना!
जब जीवन हो बिल्कुल नीरस,
तुम रंगों की वर्षा करना।
गर सत्कर्मों से रुखसत हो कभी,
कृष्णा बन गीता पढ़ना।
जब प्रवाह बहे अपवादों का,
तुम धैर्य की धारा बन बहना।
मन के मंदिर में बसकर,
पावन इस देह को करना!
गर कर्म करूं और निष्फल बनूं,
साहस रूपी शिखर बनना,
जब मदमत्तता की व्याप्त आंधियां हों,
आध्यात्मिक बुद्धि का प्रसार करना।
तामसिक प्रवृत्ति की उपज बढ़े,
सात्विकता तुम मुझमें भरना।।
मन के मंदिर में बसकर,
पावन इस देह को करना!!

6 Likes · 3 Comments · 434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
3116.*पूर्णिका*
3116.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
विश्वास
विश्वास
Bodhisatva kastooriya
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
मां
मां
Monika Verma
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
✍️✍️✍️✍️
✍️✍️✍️✍️
शेखर सिंह
शॉल (Shawl)
शॉल (Shawl)
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
महामारी एक प्रकोप
महामारी एक प्रकोप
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
सत्य कुमार प्रेमी
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
Harminder Kaur
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
Loading...