Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मन की कामना

कर देती पुरा, मन की कामना सारी।
तेरी शरण में जो आए शेरावाली।।

सुना हु महिमा, बचपन से, तेरे बारे में
फ़सी नैया को भी, लगाते किनारे में
तेरा बेटा खुश रहे, तेरी ममता में
मै भी रम जाऊ अब, तेरी भजन के सरिता में
तेरे दरवार में जो लाये झोलि खाली
भर देती सबकी झोली मेहरावली।
कर देती पुरा, मन की कामना सारी
तेरी शरण में जो आए शेरावाली।।

मैं भी दुनियाँ से हार, तेरी शरण आया माँ
इस दुनियाँ में, एक तूही है सहारा माँ
जोभी तेरी चरण का धूल, है लगाता माँ
कष्ट उनकी है, पलभर में मिट जाता माँ
तरी अनुपन दया से, ये टिकी दुनियाँ सारी
तूही जग की जननी, तूही महामाई
कर देती पुरा, मन की कामना सारी।
तेरी शरण में जो आए शेरावाली।।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन: तू जो हंस हंस के सनम)

Language: Hindi
Tag: गीत
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चुनावी साल में समस्त
चुनावी साल में समस्त
*Author प्रणय प्रभात*
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
We make Challenges easy and
We make Challenges easy and
Bhupendra Rawat
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
हथियार बदलने होंगे
हथियार बदलने होंगे
Shekhar Chandra Mitra
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
DrLakshman Jha Parimal
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
Loading...