Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

मन उस आँगन ले जाए (गीतिका)

आकर साजन तू ही ले जा क्यूँ ये सावन ले जाए
अधरों पर छायी मस्ती ये क्यूँ अपनापन ले जाए

भिगो रहा है बरस-बरस कर मेघ नशीला ये काला
कहीं न ये यौवन की खुश्बू मन का चन्दन ले जाए

कड़क-गरज डरपाती बिजली पल-पल नभ में दौड़ रही
कहीं न ये चितवन के सपने संचित कुंदन ले जाए

बिंदी की ये जगमग-जगमग खनखन मेरी चूड़ी की,
बूँदों की ये रिमझिम टपटप छनछन-छनछन ले जाए

पुहुप बढाते दिल की धड़कन शाखें नम कर डोल रहीं
कहीं न ये अँगड़ाई का फन बरबस कानन ले जाए

बढ़ी जा रही भीग-भीगकर चिकुर जाल की ये उलझन
कुन्तल से हरियाला तरुवर हर्षित उपवन ले जाए

रुनझुन-रुनझुन करती पायल बिछुओं से कह आयी है
सारे बंधन तोड़ सखी अब मन उस आँगन ले जाए.

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 4 Comments · 572 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
!! शब्द !!
!! शब्द !!
Akash Yadav
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सम्बंध बराबर या फिर
सम्बंध बराबर या फिर
*Author प्रणय प्रभात*
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
वक्त एक हकीकत
वक्त एक हकीकत
umesh mehra
ए जिंदगी ,,
ए जिंदगी ,,
श्याम सिंह बिष्ट
*युद्ध का आधार होता है 【मुक्तक】*
*युद्ध का आधार होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
पुष्प
पुष्प
Er. Sanjay Shrivastava
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
"ये कैसी चाहत?"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...