Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

मन उस आँगन ले जाए (गीतिका)

आकर साजन तू ही ले जा क्यूँ ये सावन ले जाए
अधरों पर छायी मस्ती ये क्यूँ अपनापन ले जाए

भिगो रहा है बरस-बरस कर मेघ नशीला ये काला
कहीं न ये यौवन की खुश्बू मन का चन्दन ले जाए

कड़क-गरज डरपाती बिजली पल-पल नभ में दौड़ रही
कहीं न ये चितवन के सपने संचित कुंदन ले जाए

बिंदी की ये जगमग-जगमग खनखन मेरी चूड़ी की,
बूँदों की ये रिमझिम टपटप छनछन-छनछन ले जाए

पुहुप बढाते दिल की धड़कन शाखें नम कर डोल रहीं
कहीं न ये अँगड़ाई का फन बरबस कानन ले जाए

बढ़ी जा रही भीग-भीगकर चिकुर जाल की ये उलझन
कुन्तल से हरियाला तरुवर हर्षित उपवन ले जाए

रुनझुन-रुनझुन करती पायल बिछुओं से कह आयी है
सारे बंधन तोड़ सखी अब मन उस आँगन ले जाए.

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 4 Comments · 370 Views
You may also like:
मनुज जन्म का गीत है गीता, गीता जीवन का सार...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परम भगवदभक्त 'प्रह्लाद जी' ✨
Pravesh Shinde
*सबसे प्रेम कर अनुकूल कर लेना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्तुति
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हेमन्त दा पे दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या करें
Kaur Surinder
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
A poor little girl
Buddha Prakash
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
लोकतंत्र में मुर्दे
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
फ़ितरत रखते अगर बदलने की
Dr fauzia Naseem shad
मैं तुमसे प्रेम करती हूँ
Kavita Chouhan
पिता
Dr.Priya Soni Khare
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
माँ का अनमोल प्रसाद
राकेश कुमार राठौर
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
छठ पर्व
Varun Singh Gautam
Loading...