Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।

मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।
मन के भीतर पैठ जो, मन मंदिर कर जाय।।
© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
Karma
Karma
Sridevi Sridhar
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
* श्री ज्ञानदायिनी स्तुति *
* श्री ज्ञानदायिनी स्तुति *
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
निगाहें के खेल में
निगाहें के खेल में
Surinder blackpen
2393.पूर्णिका
2393.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
🙅आज का सवाल🙅
🙅आज का सवाल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...