Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

मनमुटाव अच्छा नहीं,

मनमुटाव अच्छा नहीं,
आपस में ऐ मित्र ।
किस पल बदले क्या खबर ,
जीवन अपना चित्र ।।

सुशील सरना / 3-2-24

1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
Ravi singh bharati
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
Yuvraj Singh
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
शेखर सिंह
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
दो भावनाओं में साथ
दो भावनाओं में साथ
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
वक़्त के साथ खंडहर में
वक़्त के साथ खंडहर में "इमारतें" तब्दील हो सकती हैं, "इबारतें
*Author प्रणय प्रभात*
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...