Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2017 · 1 min read

“मदकलनी छंद”

“मदकलनी छंद”

विकल भई, जल तरसी, यह बगिया, मधुबन की।
नयन तके, नभ गगरी, जल यमुना, गिरिधर की।।

सुन सजना, घर अँगना, सुधि धरिए, चितवन में।
मग मथुरा, मृग छवना, पय विधना, उपवन में।।

दरश दियो, नहि अपना, कित रहते, अनुनय है।
अरज सुनों, मन रसिया, नभ उड़ते, सविनय है।।

श्रवन मिली, नहि मुरली, रस मधुरी, प्रियमन में।
अयन तकूँ दिन रतिया, घर बखरी, अनबन में।।

महातम मिश्र ‘गौतम’ गोरखपुरी

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Neeraj Agarwal
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
8. *माँ*
8. *माँ*
Dr Shweta sood
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
"किताबों में उतारो"
Dr. Kishan tandon kranti
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
Ravi Prakash
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
रक्त एक जैसा
रक्त एक जैसा
Dinesh Kumar Gangwar
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■आओ करें दुआएं■
■आओ करें दुआएं■
*Author प्रणय प्रभात*
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
★दाने बाली में ★
★दाने बाली में ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...