Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

मत बनो उल्लू

जाने कैसे उन्हें समझने में
तुमसे हो गई थी भूल
तुम उन्हें फूल समझते रहे
और वो तुम्हें अप्रैल फूल

हुआ क्यों ये तुम्हारे साथ ही
क्यों तुमने उसको दिल दिया
वो घूमती रही साथ तुम्हारे
लेकिन उसने तुम्हें बस बिल दिया

होता है कभी कभी ऐसा भी
जब मिल जाता है कोई खिलाड़ी तुम्हें
ख़ुद को समझते हो भाग्यशाली तुम
और वो समझता है अनाड़ी तुम्हें

तुम इंतज़ार करते हो उसका
वो किसी और के दिल में रहता है
आता है ज़रूर तुमसे मिलने भी वो
जब उसका टाइम पास नहीं होता है

दिखता है प्यार तुमको जिसमें
वो कभी उसको तुमसे नहीं होता
कभी ग़ौर करना मेरी बात पर तुम
वो कभी तुम्हारे लिए नहीं रोता

कब तक बनेगा बेवक़ूफ़ तू
कभी उससे पूछ कर तो देख
जान जाएगा, क्या है दिल में उसके
कभी आँखों में आँखें डाल कर तो देख

बन गये बहुत उल्लू अब तक तुम
अब और ख़ुद को बेवक़ूफ़ न बनाओ
है समय अभी भी, रहकर साथ उसके
खुद को तुम और उल्लू न बनाओ।

13 Likes · 1 Comment · 4120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
शासन हो तो ऐसा
शासन हो तो ऐसा
जय लगन कुमार हैप्पी
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
शुक्रिया कोरोना
शुक्रिया कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
VINOD CHAUHAN
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
सुख दुःख
सुख दुःख
विजय कुमार अग्रवाल
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
Ravi Prakash
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
ग्रन्थ
ग्रन्थ
Satish Srijan
एकतरफ़ा इश्क
एकतरफ़ा इश्क
Dipak Kumar "Girja"
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
........?
........?
शेखर सिंह
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...