Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2023 · 1 min read

मत देख कि कितनी बार हम तोड़े जाते हैं

मत देख कि कितनी बार हम तोड़े जाते हैं
हम काँच नहीं सोना हैं इसलिए जोड़े जाते हैं ।
a m prahari

1 Like · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
एक पते की बात
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"हमदर्दी"
Dr. Kishan tandon kranti
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
राखी है अनमोल बहना की ?
राखी है अनमोल बहना की ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
श्री राम वंदना
श्री राम वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाबा भीम आये हैं
बाबा भीम आये हैं
gurudeenverma198
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
एक तरफ चाचा
एक तरफ चाचा
*Author प्रणय प्रभात*
सुकून
सुकून
Neeraj Agarwal
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
Loading...