Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

मत करना।

मत करना हमारे लिए सज्दों में दुआएं।।
वर्ना खुदा तुमको भी गुनहगार समझेगा।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
Rekha khichi
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
अरशद रसूल बदायूंनी
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ Rãthí
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2443.पूर्णिका
2443.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
Y
Y
Rituraj shivem verma
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
💐अज्ञात के प्रति-128💐
💐अज्ञात के प्रति-128💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
माता रानी की भेंट
माता रानी की भेंट
umesh mehra
नफ़रत
नफ़रत
विजय कुमार अग्रवाल
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
Loading...