Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 2 min read

मतदान

मतदान

दुःखड़ा जो रोते फिरते तुम ।
कि हो गया कहाँ विकास गुम ।।
कि योजनाएँ तो बहुत चली ।
कागजों में ही रहीं भली ।।
कि आज भी मेरे शहर में ।
रात हो या दोपहर में ।।
बढ़ा जुर्म और अत्याचार ।
बढ़ी चोरी बढ़ा व्यभिचार ।।
बढ़ा गुंडों का व्यापार ।
बढ़ गया भ्रष्टाचार ।।
तो तुम्हारे पास अब भी है ।
मतदान का अधिकार ।।
जाना अब तुम मतदान करने ।
अपनी समस्याओं का निदान करने ।।
सौदा न करना वोट का नोट से ।
न भरना घाव, दूसरी चोट से ।।
देना उसे ही अपना मत,
जो तुम्हें अपने रहते, रोने न दे ।
तुम्हारी खुशियों को खोने न दे ।।
योजनाओं को दे जो पूर्ण आकार ।
करे तुम्हारे सपने साकार,
तुम्हें दे तुम्हारे अधिकार ।।
रोओ न बस तुम दुखड़ा ।
करो मतदान की ओर मुखड़ा ।।
अपने अधिकार का सदुपयोग करो ।
मत, ले, दे कर, बिन रोग मरो ।।
जो न गये मतदान करने तुम ।
तुम्हारे आँसू भी हो जाएंगे गुम ।।
या तुमने नोट ले, बुरे नेता को दिया वोट ।
चार दिन का सुख पा फिर खाओगे चोट ।।
ना कोसो सरकार को, जब दिया नहीं तुमने वोट ।
मतदान करने न गये तुम , तो तुम में ही खोट ।।
अब तुम जाओ मतदान करने ।
अपनी समस्याओं का निदान करने ।।
जुझारू, ईमानदार और कर्मठ नेता को देना तुम वोट ।
कैसे नेता ईमानदार मिले, जब तुम नोट गिन, दो वोट ।।
यदि तुम विकास चाहते, न चाहते हो
योजनाओं में खोट ।
तो ईमानदारी से मतदान करो, न लेकर के नोट ।।

वो लोग भी कहने लगते कि नेता भ्रष्ट है ।
जिन्होंने खुद पैसे ले, दबाव में वोट दिया ,
और कुछ जो मतदान करने ही न गए थे ,
ऐसे लोगों से ही तो प्रजातंत्र को कष्ट है ।।

– नवीन कुमार जैन

Language: Hindi
1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Naveen Jain
View all
You may also like:
उसने कहा....!!
उसने कहा....!!
Kanchan Khanna
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*Author प्रणय प्रभात*
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
2925.*पूर्णिका*
2925.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Memories
Memories
Sampada
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)
वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
बेरोज़गारी
बेरोज़गारी
Shekhar Chandra Mitra
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
टफी कुतिया पे मन आया
टफी कुतिया पे मन आया
Surinder blackpen
दोहावली...
दोहावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
💐प्रेम कौतुक-325💐
💐प्रेम कौतुक-325💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं बुद्ध के विरुद्ध न ही....
मैं बुद्ध के विरुद्ध न ही....
Satish Srijan
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
Loading...