Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 2 min read

मतदान करो और देश गढ़ों!

राष्ट्र हेतु बन राष्ट्र हितैषी, हर एक फ़र्ज़ निभाना।
कर मतदान तू अपने मन से, राष्ट्रप्रेम दिखलाना।।
हैं अधिकार मिले जो साथी, इसे नही ठुकराना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

वह होता तो यह होता, यह होगा तो अच्छा होगा।
चुनने का है मौका तुमको, चुनो कौन सच्चा होगा।।
एक दिवस के आलस से, पड़े पाँच वर्ष पछताना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

अपनी अंगुली की ताकत, बन जनता दिखला दो।
लोकतंत्र के पर्व को सब, मिलके सफल बना दो।।
झूठे बहाने दे- दे साथी, छोड़ो खुद को भरमाना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

एक बहाना सरदर्दी, और एक बहाना उफ्फ गर्मी।
एक बहाना छुट्टी के पल, छीने चैन क्यों बेशर्मी।।
छोड़ थकावट से अपने, दिन पैर पसार बिताना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

एक बहाना हुई है शादी, छोड़ उसे कैसे जाए।
एक बहाना बूढ़े हैं जो, बोलो उन्हें कैसे लाए।।
हटा बहाने सीखो प्यारे, चुनाव का पर्व मनाना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

एक बहाना किसे वोट दें, सब के सब है अपने।
एक बहाना क्यों देखे हम, जागते आखों सपने।।
है सारे बहाने ये जंजाली, न जालों में फंस जाना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

जागरूकता दिखा के हम, जागरूक कहलाएंगे।
स्वार्थ की परिपाटी से उठ, मतदाता बन जाएंगे।।
मतदान करो और देश गढ़ों, है नारा यही लगाना।
अपना मत देने हेतु तुम, खुद को खुद ले जाना।।

©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित २०/०४/२०२४)

Language: Hindi
1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
Subhash Singhai
आनंद (सुक़ून) वाह्यलोक नही, अंतर्मन का वासी है।”
आनंद (सुक़ून) वाह्यलोक नही, अंतर्मन का वासी है।”
*Author प्रणय प्रभात*
"तर्के-राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3081.*पूर्णिका*
3081.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वक्त निकल जाने के बाद.....
वक्त निकल जाने के बाद.....
ओसमणी साहू 'ओश'
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
चॉकलेट
चॉकलेट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"रंग अनोखा पानी का"
Dr. Kishan tandon kranti
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
Sunil Maheshwari
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
Loading...