Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

मटका

मिट्टी खोदा चूर चूर कर,
पानी से फिर माड़ा।
गूंथ गूंथ कर किया मुलायम,
ककड़ पत्थर काढ़ा ।

उस मिट्टी को चाक पर रखकर,
डंडा मार घुमाया।
कुंभकार निज हाथ सहारे,
गोल आकार बनाया।

धूप में रखा कई दिनों तक,
अग्नी खूब तपाकर ।
इतनी दुर्गति करवाकर के,
घड़ा बना तब जाकर ।

अंदर से पूरा खोखला है,
एक धक्के में चटका ।
फिरभी जिद देखो है कैसी,
अब भी मटका मटका ।

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
793 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
बहुत गहरी थी रात
बहुत गहरी थी रात
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ख़ामोशी
ख़ामोशी
Dipak Kumar "Girja"
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
★दाने बाली में ★
★दाने बाली में ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*तपन*
*तपन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
Ranjeet kumar patre
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*प्रणय प्रभात*
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
भाई
भाई
Dr.sima
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Surinder blackpen
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
Loading...