Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2016 · 1 min read

मजबूर बचपन

बचचे सचचे होते मन के
द्वेष भाव न मन में धरते
मिलजुल कर रहते हैं सारे
हँसी खुशी से मिलकर रहते।

खेल खिलौने भाते इनको
रंगीन ग़ुब्बारे लुभाते इनको
आँखों मे हसरत पाने की
न मिले तो रूलाते इनको।

बडी आस से ताक रहे हैं
सपने मन में झाँक रहे है
बेबस बचपन है गुमसुम
आँखों आँखो से भाँप रहे है ।

सपने सा लगता इनहें पाना
चाह करते निकला ज़माना
देख कर ही ये खुश हो लेते
भागय में कहाँ है हाथ लगाना।

क्यूँ बेबस इतना हुआ बचपन
जीता निश दिन मार के मन
आधा पेट ही खाने को मिलता
जी रहा आँखों में लिये अधूरापन।
सूक्षम लता महाजन

Language: Hindi
1 Comment · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
ब्याह  रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
ब्याह रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
Dr Archana Gupta
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...