Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2016 · 1 min read

मजबूर बचपन

बचचे सचचे होते मन के
द्वेष भाव न मन में धरते
मिलजुल कर रहते हैं सारे
हँसी खुशी से मिलकर रहते।

खेल खिलौने भाते इनको
रंगीन ग़ुब्बारे लुभाते इनको
आँखों मे हसरत पाने की
न मिले तो रूलाते इनको।

बडी आस से ताक रहे हैं
सपने मन में झाँक रहे है
बेबस बचपन है गुमसुम
आँखों आँखो से भाँप रहे है ।

सपने सा लगता इनहें पाना
चाह करते निकला ज़माना
देख कर ही ये खुश हो लेते
भागय में कहाँ है हाथ लगाना।

क्यूँ बेबस इतना हुआ बचपन
जीता निश दिन मार के मन
आधा पेट ही खाने को मिलता
जी रहा आँखों में लिये अधूरापन।
सूक्षम लता महाजन

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 366 Views
You may also like:
किसी आशिक से
Shekhar Chandra Mitra
विभाजन की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
आग-ए-इश्क का दरिया।
Taj Mohammad
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
" अद्भुत, निराला करवा चौथ "
Dr Meenu Poonia
नारी शक्ति के नौरूपों की आराधना नौरात एव वर्तमान में...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
वक़्त तबदीलियां भी
Dr fauzia Naseem shad
विभिन्न–विभिन्न दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम हैं गुलाम ए मुस्तफा दुनिया फिजूल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तजुर्बा
Anamika Singh
रोना
Dr.S.P. Gautam
विभिन्न पत्नियों के विभिन्न वार्तालाप अपने प्रिय पतियों के साथ
Ram Krishan Rastogi
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
💐💐ये पदार्थानां दास भवति।ते भगवतः भक्तः न💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र...
Deepak Kumar Tyagi
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल और चेहरा
shabina. Naaz
विश्वासघात
Seema 'Tu hai na'
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
'अशांत' शेखर
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
Loading...