Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

मउगी चला देले कुछउ उठा के

मउगी त मरदे में खोजे खराबी
एतने ह कमी कि हउवे शराबी

खेलेला जुआ भा तास सुरिया के
गहना ले बेचि देला मीट भात खा के

कहेला चिंता का करेलू रानी
समस्या के जर हम बटले नू बानी

बीघा भर बापे से मिलल बा खेती
हम नाहीं बेचेब त बोलऽ के बेची

जरे के बटले बा चिता पर जा के
का होई रात-दिन रुपिया कमा के

मरदा के सुन उपदेश, अगुता के
मउगी चला देले कुछउ उठा के

कुछउ ना मिले त कूँची से मारे
मरदो ना कम हवे झोंटा उँखारे

जीते ना मउगी त हबके ले दाँते
भागेला मरदा तब दुअरा चिल्लाते

खिसिन में लागेला खटिया उलाटे
बीतल पुरान बाति सगरी उपाटे

कटले ह दाँते आ दिहले ह गारी
इहे सिखऽवले बा बाप महतारी

करम जरल जहिये जिनिगी में अइले
भइनी बिलार हम बाघिन ते भइले

रात दिन हमसे गुलामी करऽवले
कहियो ना हीक भर दारू पिअवले

पहिले के रात रँग आपन देखऽवले
पलँग से धाका तें दे के गिरऽवले

मरदा के बात जब नाहीं रोकाला
मउगी से चार बाँस अउरी ठोकाला

मुश्किल बा येकनी के झगड़ा छोड़ावल
जइसे कि बियल में हाँथी घुसावल

बिहाने से दूनू ई लागे सन लड़े
खइले बिना लइका चल देला पढ़े

जे रहित रहन तब मरदा पुजाइत
लइका इस्कूले उपासे ना जाइत

दारू आ जुआ से दूरी बनाइत
मउगी से इज्जत उ काहें ना पाइत

हम येही से घरवा में इज्जत से बानीं
कि दारू आ जुआ के लगे ना जानीं

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 02/04/2023

2 Likes · 2 Comments · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
Sushila joshi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
सच तो हम और आप ,
सच तो हम और आप ,
Neeraj Agarwal
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
तू ही मेरा रहनुमा है
तू ही मेरा रहनुमा है
Monika Arora
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
Anand Kumar
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
"शुक्रिया अदा कर देते हैं लोग"
Ajit Kumar "Karn"
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
2694.*पूर्णिका*
2694.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भविष्य..
भविष्य..
Dr. Mulla Adam Ali
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
Loading...