Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2023 · 2 min read

मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्

मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात् ,सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ।।

( सिद्ध, गंधर्व ,यश ,असुर और अमरता प्राप्त देवों के द्वारा भी पूजित और सिद्धियो को प्रदान करने की शक्ति से युक्त माँ सिद्धिदात्री हमें भी सिद्धियां प्रदान करें।)

नवरात्रि के नौवे दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना की जाती है। माँ सिद्धिदात्री माँ दुर्गा का नौवां स्वरूप है। सिद्धि शब्द का अर्थ है “अलौकिक शक्ति” या ध्यान करने की क्षमता और धात्री का अर्थ है “पुरस्कार देने वाला” या देने वाली। मान्यता है कि उनकी पूजा करने से आठ प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं। माँ भगवती दुर्गा दैत्यों के अत्याचारों मां सिद्धिदात्री को नष्ट करने और मानव के कल्याण व धर्म की रक्षा करने के लिए नवरात्रि के नौवे दिन सिद्धिदात्री के रूप में उत्पन्न होती है। माँ सिद्धिदात्री को समृद्धि और संपूर्णता का प्रतीक माना जाता है।
शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव ने भी माता सिद्धि दात्री की कठोर तपस्या कर इसे सभी आठ सिद्धियां प्राप्त की थी। मान्यता है की माँ सिद्धि मंत्र की उत्पत्ति माँ कुष्मांडा ने की थी माँ सिद्धिदात्री ने ब्रह्मा, विष्णु ,महेश को जन्म दिया था। माँ सिद्धिदातत्री अपने भक्तों को बुद्धि का आशीर्वाद देती हैं और उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करती हैं। माँ सिद्धिदात्री सभी दिव्य आकांक्षाओं को पूरा करती है इनकी आराधना से ज्ञान,बुद्धि ,एश्वर्य इत्यादि सभी सुख सुविधाओं की भी प्राप्ति होती है। माँ सिद्धिदात्री की पूजा करने से सभी कार्य सिद्ध होते हैं। और मोक्ष की प्राप्ति होती है। सिद्धियो की प्राप्ति के लिए देव, गंधर्व ऋषि ,असुर सभी इनकी पूजा करते हैं। इस दिन शास्त्रीय विधि विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियौ की प्राप्ति होती है। माँ की पूजा ब्रह्म मुहूर्त में करना उत्तम होता है। माँ को सफेद रंग प्रिय है इसलिए इन्हें कुमकुम और रोली अर्पित करनी चाहिए। सिंदूर, अक्षत ,फूल ,माला, फल ,मिठाई इत्यादि चढ़ाने चाहिए। माँ को तिल का भोग लगाए और कमल का फूल अर्पित करें। नौ कन्याओं को श्रृंगार सामग्री दें तथा माँ के सामने एक दीप जलाकर रखें और हाथ में पुष्प लेकर देवी का ध्यान करें।

हरमिंदर कौर
अमरोहा (उत्तर प्रदेश)

1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
■ अनावश्यक चेष्टा 👍👍
■ अनावश्यक चेष्टा 👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
*गीता - सार* (9 दोहे)
*गीता - सार* (9 दोहे)
Ravi Prakash
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
कवि रमेशराज
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
"इण्टरनेट की सीमाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-427💐
💐प्रेम कौतुक-427💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां
मां
Sûrëkhâ Rãthí
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...