Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2022 · 1 min read

मंजिल की उड़ान

मंजिल को प्राप्त करने में
हजारों उद्विग्नता आएगी
जो मात दिया विपत्ति को
उसी को मिलती अभ्युदय
मंजिल की इस उड़ान में ।

मंजिल को पाने की चाह ही
आपको ज़द तक ले जाएगी
पतन का जो किया सामना
उसी को मिलती सार्थकता
मंजिल की इस उड़ान में ।

मानुज तो मंजिल बदल देते
अटक, दुर्ग्राह्यता को देखके
इन कक्लिष्टता से लड़ा जो
उसी को मिलती है ख्याति
मंजिल की इस उड़ान में ।

एक – एक सही पग आपको
आपके गम्य तक ले जाएगी
जो धेय से किया सतत द्वंद
उसी को मिलती सफलता
मंजिल की इस उड़ान में ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय बिहार

Language: Hindi
1180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
🌺फूल की संवेदना🌻
🌺फूल की संवेदना🌻
Dr. Vaishali Verma
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
आदि शंकराचार्य
आदि शंकराचार्य
Shekhar Chandra Mitra
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
2612.पूर्णिका
2612.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
Shweta Soni
हमने माना अभी अंधेरा है
हमने माना अभी अंधेरा है
Dr fauzia Naseem shad
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
अनिल "आदर्श"
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
Bramhastra sahityapedia
Loading...