Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही

मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
सोचता क्या हैं तू, बन संघर्ष का राहीं
चक्र हैं घटना क्रम, मिश्रित सफल कहानी
बहा कर देख ले, तन सीकर का पानी

सपना सजा के पूर्ण कर, प्रतिज्ञा बना निशानी
कुनबे पर तू समर्पण, कर अनुभवी जवानी
वसंत के आगमन में, महके पुष्प क्यारी
आशीष से, फले समृद्धि, वैभव लक्ष्मी प्यारी
इंजी.नवनीत पाण्डेय सेवटा (चंकी)

1 Like · 298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
इस दिल बस इतना ही इंतकाम रहे,
इस दिल बस इतना ही इंतकाम रहे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
3072.*पूर्णिका*
3072.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
घाव बहुत पुराना है
घाव बहुत पुराना है
Atul "Krishn"
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
"इन्तजार"
Dr. Kishan tandon kranti
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*प्रणय प्रभात*
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
यह शहर पत्थर दिलों का
यह शहर पत्थर दिलों का
VINOD CHAUHAN
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
कर
कर
Neelam Sharma
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
हाथ की लकीरें
हाथ की लकीरें
Mangilal 713
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
अड़चन
अड़चन
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
Loading...