Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2018 · 1 min read

:: मंज़िल ::

** मंजिल **
// दिनेश एल० “जैहिंद”

हर किसी की मंजिल जुदा-जुदा,
ऐसा क्यूँ होता है, बता ये खुदा ।।
हर कोई तय मंजिल नहीं पाता,
हर लक्ष्य का फूल नहीं खिलता ।।

सपनों में होती सबके तो मंजिल,
पर होती दूर और रहती धूमिल ।।
सबकी कोशिश है उनकी मंजिल,
पर आसां नहीं मिले हर मंजिल ।।

रख नजर मंजिल पे चलता जा,
छोड़ मायूसी और तू हँसता जा ।।
काम से नाम सच में मिलता है,
नाम से दिल का फूल खिलता है ।।

एक कारवां एक ही जीवन-रथ,
भटके हुए हैं सारे मुसाफिर पथ ।।
इन राहों में तू बदनामी से बच,
जीवन-पथ में गुमनामी से बच ।।

====≈≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
10. 11. 2017

Language: Hindi
355 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
Neelofar Khan
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
कहाँ तक जाओगे दिल को जलाने वाले
कहाँ तक जाओगे दिल को जलाने वाले
VINOD CHAUHAN
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
seema sharma
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
शेखर सिंह
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
करबो हरियर भुंईया
करबो हरियर भुंईया
Mahetaru madhukar
फितरत
फितरत
Mamta Rani
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
*प्रणय प्रभात*
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी तूने  ख्वाब दिखाकर
जिंदगी तूने ख्वाब दिखाकर
goutam shaw
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
शीर्षक:-मित्र वही है
शीर्षक:-मित्र वही है
राधेश्याम " रागी "
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
पूर्वार्थ
Loading...