Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

भ्रम

हताश मैं
विचर रहा था इस
बियाबान में
न कोई मंजिल न
कोई रास्ता था
मेरे लिए इस संसार में।

एक शीतल बयार
बन के तुम
अचानक से आ गयी
अपनी मादक सुगंध
व मोहक अदा और
सुविज्ञता से
मेरे दिलो दिमाग पर
कुछ इस तरह छा गयी
मुझे लगा कि
हां, मेरी मंजिल आ गयी।

अपनी मंजिल पर
बढ़ते कदम
कभी खुशी कभी गम
रूठना मनाने का दौर
पर अंततः मिला नही
मेरी मंजिल को ठौर।

अचानक से एक दिन
मेरा फोन उठना
बंद हो गया
तमाम कोशिशों के बाद
मेरा हर प्रयास
असफल हो गया।

मैंने चाह कर भी
तेरी तलाश नही की
मुझे भय था कि
कहीं तुम हमसे दूर
तो नही हो गयी।

अपने मन को देता
रहा झूठा एक दिलासा
जबकि जानता था
नही तेरे आने की
कोई आशा
पता नही क्यों दिल
का एक कोना लिये था
तुमसे मिलने की प्रत्याशा।

यह भ्रम बना रहे
यही मैं चाहता भी रहा
उसी भ्रम के सहारे
शेष दिन बिताना
चाहता था
डर था कि जिस दिन
तेरे किसी और के
होने का पता चलेगा
मेरा मन कैसे संभालेगा।

शायद इसकी परिणीति
स्वयं को समाप्त
करने पर न पहुँच जाय
इससे तो अच्छा था
कि उसी भ्रम के सहारे
ही जिया जाय।

प्रिय आज मैं यदि
जिंदा हूँ
बेशक एक पंखहीन
परिंदा हूँ
फिर भी निर्मेष
इस जीवन को निर्विवाद
तेरी मेहरबानियां ही
मानता हूँ।

निर्मेष

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
Manoj Mahato
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लफ्जों के सिवा।
लफ्जों के सिवा।
Taj Mohammad
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
गंगा घाट
गंगा घाट
Preeti Sharma Aseem
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
Rajesh Tiwari
🙅नुमाइंदा_मिसरों_के_साथ
🙅नुमाइंदा_मिसरों_के_साथ
*प्रणय प्रभात*
पत्थर दिल समझा नहीं,
पत्थर दिल समझा नहीं,
sushil sarna
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक (कुंडलिया )
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
पूर्वार्थ
"सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
Loading...