Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

भ्रम अच्छा है

कमरे की खिड़की मेरी
पूछती है अक्सर
क्यूँ मैं चाँद को आने देती हूँ
दबे पाँव भीतर
रात-बे-रात-रात कमरे में अपने
और जवाब कहता नहीं
कि खिड़की मेरे कमरे की
इश्क़ में है मेरे
और मैं चाँद के इश्क़ में
बस इतनी सी बात जरूर है
लेकिन कह दी जाए
तो अनकही ही भली है ऐसे
अपने-अपने इश्क़ हैं
और अपने-अपने भ्रम भी
बात ये है कि
ख़ुश है हर एक अपने भरम में
और इश्क़ में एक भ्रम भी
न हो तो जैसे जीने की
वजह नहीं फ़िर भी
ये भ्रम बना रहे तो अच्छा है.

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ
माँ
Arvina
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐प्रेम कौतुक-546💐
💐प्रेम कौतुक-546💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
मारुति
मारुति
Kavita Chouhan
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
पल
पल
Sangeeta Beniwal
पिता
पिता
sushil sarna
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
👌फार्मूला👌
👌फार्मूला👌
*Author प्रणय प्रभात*
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
Loading...