Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

भूल गई

नमन मंच
#दिनांक :- 14/8/2023
#शीर्षक:- भूल गयी

एक बात कहनी थी भूल गयी!
कोई मेरा भी था,
कहनी थी,
भूल गयी!
कभी से लेकर अभी तक की
शिकायत करनी थी,
भूल गई!
आते – आते आ गयी लबों पे बात ,
कहनी थी ,
भूल गयी !
कैसे -कैसे सपने,
रातों में रोज आये,
कहनी थी,
भूल गयी !
मेरी हमदम थीं,
ये बेडशीटें,
सारे आँसू सोख जाते हैं,
कहनी थी
भूल गयी !
ताने सुनकर भी,
रिश्तों में वफादारी रखी ,
कहनी थी ,
भूल गयी!
अजनबी सावन,
की बूॅदों के साथ,
अरमान जमीन पर गिरे कहनी थी,
भूल गयी !
नदी सी प्रवाहित “प्रति” बहती रही,
बहती है,
कहनी थी ,
भूल गयी !
सागर से तो मिलना,
लिखा रहता है हमेशा से,
कभी अपने आप से मिलनी थी ,
भूल गयी !
जिन्दगी मेरी थी,
मौज मस्ती से जीनी थी ,
नेह- सुधा पीनी थी,
पर अफसोस,
भूल गयी!

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है|

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
फ़ितरत
फ़ितरत
Ahtesham Ahmad
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2708.*पूर्णिका*
2708.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
जगदीश शर्मा सहज
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
सत्य कुमार प्रेमी
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
पूर्वार्थ
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
dks.lhp
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
Ram Krishan Rastogi
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
Loading...