Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 2 min read

भूत अउर सोखा

सोखा जब जब आवेला तऽ टाने बीयर, वाइन,
झुठहूँ रोज उपाटेला ऊ चुरइल भूतिन डाइन।

निमनो मनई झूमे लागे कूदे अउरी नाँचे,
जब सोखा गाँवे में आके अंतर मंतर बाँचे।

पहिले भूत जगावे खातिर माँगेला कुछ बीखो,
उल्लू अगर बनावे के बा ओकरा से सब सीखो।

बोलेला ऊ पूजा करेबि जा के हम शमशाने,
रुपया पइसा लगी चढ़ावा भूत न अइसे माने।

माँगेला बकरा भा मुर्गा, दारू, इंग्लिश, देसी,
कहेला बा भूत खवइया खाई ना तऽ लेसी।

कहेला सोना आ चानी बा धरती के नीचे,
बिहने भूत जगावेक परी तीन डगर के बीचे।

लइका नइखे होत अगर तऽ ओकर अलग तरीका,
निफिक्किर तू हो जा भाई दे दऽ हमके ठीका।

ये दुनिया में बाटे भाई जेतना रोग बिमारी,
सोखवा कहे हमरा से ऊ कवन रोग ना हारी।

लोगवा जानेला ठग हवे मौका पा के ठऽगी,
तबो काहें करत रहेला हाँथ जोड़ पँवलऽगी।

भरम जाल में पड़ला से तऽ आवे बस बरबादी,
झाड़ फूँक के भइल जाता लोगवा बाकिर आदी।

मनोरोग के दुनिया में बा चलऽल बहुत दवाई,
सोखा लगवा जइबऽ तऽ ऊ नुकसाने पहुँचाई।

कवनो रोग रही तहरा पर चढ़ऽल भूत बताई,
अगल बगल के दिहल कहि के झगरा रोज फसाई।

परबऽ जे घनचक्कर में अइसन तहके समझाई,
रुपिया पइसा ले ली अउरी जानो ले के जाई।

हाकिन, डाकिन, हठी, मर्ही, भूत, पिचास, बता के,
हाथी के जस बड़हन कऽ दी छोटहन रोग बढ़ा के।

ये ढोंगिन के चक्कर में जनि आके घर बिलवावऽ,
भूत प्रेत ना कुछऊ होला सबके इहे बतावऽ।

वैज्ञानिक युग बाटे आइल पाखण्डिन के त्यागऽ,
अंधकार के पीछे छोड़ऽ आगे आगे भागऽ।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 07/11/2022

1 Like · 527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"दिल में"
Dr. Kishan tandon kranti
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़रा इतिहास तुम रच दो
ज़रा इतिहास तुम रच दो "
DrLakshman Jha Parimal
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
गलतफहमी
गलतफहमी
Sanjay ' शून्य'
■ एक ही उपाय ..
■ एक ही उपाय ..
*प्रणय प्रभात*
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...