Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

भूख रोती है, तिलमिलाती है

भूख रोती है, तिलमिलाती है,
सूखे होंठों को ये जलाती है,
अपनी बेचैनी के सभी किस्से,
झांक कर आँखों से दिखाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

कौन सा मजहब कौन सा रब है,
भूखा इंसान ये पूछता कब है,
है खबर उसको या बेखबर वो है,
पेट में जलती आग जाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

गर्मियों के दिन खूब तपतें है,
रात सर्दी की कंपकंपाती है,
चार मौसम हैं झेल जातें हैं,
भूख लेकिन ले जान जाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

अ सड़क मेरा आंशियाँ तू है,
रात और दिन के दरमियाँ तू है,
रंग है काला, पर मुझे तू ही,
रंग दुनिया के सब दिखाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

हाथ खाली है और गला सुखा,
जाने कबसे है ये पड़ा भूखा,
लोग आते हैं लोग जाते हैं,
पर नज़र उस पर टिक न पाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

रात के किस्से क्या सुनाऊ मैं,
इन अँधेरों में क्या दिखाऊ मैं,
पेट को दाबे अपने हाथों से,
नन्ही सी गुडिया सो ही जाती है।
भूख रोती है, तिलमिलाती है।।

Language: Hindi
711 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-283💐
💐प्रेम कौतुक-283💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*फाग का रंग : बारह दोहे*
*फाग का रंग : बारह दोहे*
Ravi Prakash
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
#आलेख-
#आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
Success is not final
Success is not final
Swati
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...