Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2021 · 1 min read

भुला ना सका

तुमसे दूर जाकर भी
मैं.! दूर ना जा सका ।

तेरी यादों को दिल से
कभी भूला ना सका।।

चाहत तुझसे इस कदर थी
तेरी तस्वीर को मैं जला ना सका ।

यूं तो दुनियां समाई है
इन आंखों में,

पर तेरा चेहरा मैं कभी
भुला ना सका । ?

©® डॉ. मुल्ला आदम अली
तिरुपति – आंध्र प्रदेश
https://www.drmullaadamali.com

Language: Hindi
2 Likes · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
VINOD CHAUHAN
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
Loading...