Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

भुला देना…..

कुछ चंद फरेबी अल्फाज समझ इन्हें भुला देना
एक हसीन सपना समझ दिल को बहला लेना
न जाने क्यों यकी हो चला है अब भोर होने को है
मेरे सपनों में आई परी अब दामन छुड़ाने को है
अभी अभी तो आंख लगी ही थी इस हसीन रात में
कमबख्त इस ख्वाब ने थोड़ी ज्यादती कर दी मुझ पर
कहा था कि मंजर रहेंगे पूरी रात आंखों में तैरते
हकीकत ने मेरे ख्वाबों को मुकम्मल न होने दिया

बहुत नाजुक है दिल मेरा बहुत संजीदा सा हाल है अपना
ना कोई झूठ ना फरेब ही मनसिब रहा अपना

यूं तो हसीनों के मेले बहुत है मेरे गिर्द में
ये तो कुर्बान हुआ आपका शागिर्द बनने को

काश के अनजान बने रहते हम दोनों खुद की नजरों से
अब तो ये गुनाह करके तगड़ी मुसीबत कर ली
अब तो एहसास भी है इकरार भी यूं कह दूं तुझसे प्यार भी है
कोई नश्तर सा चुभ रहा सीने में मेरे अये हमदम
क्या कोई बे वजह भी दिल पे भार लिए घूमता है
जब इल्म ना था तो कोई जुल्म भी न था

Language: Hindi
1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
"इतनी ही जिन्दगी बची"
Dr. Kishan tandon kranti
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
Shashi kala vyas
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
आसान होती तो समझा लेते
आसान होती तो समझा लेते
रुचि शर्मा
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
*प्रणय प्रभात*
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
Neelam Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
Bidyadhar Mantry
माँ
माँ
Harminder Kaur
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न मुझको दग़ा देना
न मुझको दग़ा देना
Monika Arora
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
प्रेम
प्रेम
Prakash Chandra
बेवजह कभी कुछ  नहीं होता,
बेवजह कभी कुछ नहीं होता,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
Loading...