Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

“भीषण बाढ़ की वजह”

“भीषण बाढ़ की वजह”
बस्तियों तक आती नदी नहीं,
नदी की राह में आती बस्तियां हैं।
जैसी करनी, वैसी भरनी।।

😢प्रणय प्रभात😢

1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
ओ मेरी जान
ओ मेरी जान
gurudeenverma198
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
Er.Navaneet R Shandily
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
Loading...