Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2019 · 1 min read

भाषा ही अनमोल #100 शब्दों की कहानी#

मातृभाषा संस्कृति की संवाहक है, जिसे ध्वनि ऊर्जा के माध्यम से शब्द रूप में ग्रहण किया गया, शब्द ब्रह्म, मनुष्यता को उच्चतम विकास तक पहुंचाने वाली अभिव्यक्ति का माध्यम बनी भाषा ।

मातृभाषा, यह मां की लोरी समान है । किसी क्षेत्र विशेष की भाषा वहां के सामाजिक संस्कृति परिवेश की माला के रूप में पिरोई हुई पहचान बनकर सदैव संस्कारित जीवन की प्रेरणा देती है । यह आत्मा की आवाज है, जो मां के आंचल में पल्लवित हुई अनमोल मातृभाषा ही बालक-बालिकाओं के मानसिक-विकास को पहला शब्द सम्प्रेषण देती है । भावनाओं के आदान-प्रदान की भाषा ही अनमोल ।

Language: Hindi
1 Like · 315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Aarti Ayachit
View all
You may also like:
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
gurudeenverma198
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
International Day Against Drug Abuse
International Day Against Drug Abuse
Tushar Jagawat
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Shyam Sundar Subramanian
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
यादें
यादें
Dipak Kumar "Girja"
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
Ravi Prakash
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"व्यथा"
Dr. Kishan tandon kranti
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
Loading...