Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

भाषा की समस्या

किसी कवि के
जीवन की
इससे बड़ी त्रासदी
भला और क्या होगी कि
वह एक ऐसी भाषा में
कविता लिखता है
जो उसकी प्रेमिका को
समझ में नहीं आती!
#जाति_प्रथा #नौजवान #वर्ण_व्यवस्था #poet #love #shayar #प्रेम #पूजा #youth #Caste #language #हिंदी

Language: Hindi
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
3280.*पूर्णिका*
3280.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
आज की प्रस्तुति - भाग #1
आज की प्रस्तुति - भाग #1
Rajeev Dutta
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
#शर्माजी के शब्द
#शर्माजी के शब्द
pravin sharma
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"कीचड़" में केवल
*Author प्रणय प्रभात*
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"अकेलापन की खुशी"
Pushpraj Anant
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
Loading...